Contact Us: 0532-246-5524,25, M: -9335140296 Email: [email protected]

एनटीआई न्यूक्लियर सिक्योरिटी इंडेक्स, 2016

NTI Nuclear Security Index, 2016

न्यूक्लियर थ्रेट इनिसिएटिव (Nuclear Threat Initiative-NTI) परमाणु सुरक्षा सूचकांक, विश्व के सर्वाधिक घातक पदार्थों, अत्यधिक संवर्धित यूरेनियम और प्लूटोनियम की सुरक्षा का आकलन उपलब्ध कराता है। यह सूचकांक अर्थविदों की खुफिया इकाई (Economist Intelligence Unit-EIU) और परमाणु सुरक्षा विशेषज्ञों के एक अंतरराष्ट्रीय पैनल द्वारा विकसित किया गया है। यह सूचकांक विभिन्न देशों की सरकारों को इन पदार्थों की सुरक्षा के लिए कदम उठाने और आत्मविश्वास निर्माण के लिए उपयोगी है। यह सूचकांक प्रत्येक दो वर्ष के अंतराल पर जारी किया जाता है। प्रथम एनटीआई न्यूक्लियर सिक्योरिटी इंडेक्स वर्ष 2012 में जारी किया गया था। जनवरी, 2016 में इसका तीसरा संस्करण जारी किया गया जिसमें सेबोटेज रैंकिंग को पहली बार शामिल किया गया है। इस सूचकांक से संबंधित महत्त्वपूर्ण तथ्य इस प्रकार हैं-

  • 14 जनवरी, 2016 को अमेरिकी थिंक टैंक द्वारा ‘फ्रेमवर्क फॉर एश्योरैंस, अकाउंटबिलिटी एंड एक्शन’ (Framework for Assurance, Accountbility & Action) थीम से एनटीआई न्यूक्लियर सिक्योरिटी इंडेक्स, 2016 (NTI-Nuclear Security Index, 2016) जारी किया गया।
  • इस सूचकांक में थेफ्ट रैंकिंग (यह परमाणु हथियारों में प्रयोग होने वाली परमाणु सामग्री की चोरी होने के खतरे की स्थिति को प्रदर्शित करती है) तथा सेबोटेज रैंकिंग (परमाणु सामग्री, में तोड़-फोड़) जारी की गई है।
  • इस इंडेक्स में 176 देशों में परमाणु सुरक्षा स्थितियों का आकलन किया गया है। जिसमें 24 देशों में एक किग्रा. और उससे अधिक हथियार प्रयोज्य परमाणु पदार्थ और 152 देशों में एक किग्रा. से कम हथियार प्रयोज्य परमाणु पदार्थ की सुरक्षा स्थिति का आकलन किया गया है।
  • इस इंडेक्स के अनुसार, दुनिया में एक किग्रा. या उससे अधिक हथियार उपयोगी परमाणु सामग्रियों वाले 24 देशों में ऑस्ट्रेलिया सबसे सुरक्षित है। 21वीं रैंक के साथ भारत सुरक्षा की दृष्टि से सबसे कमजोर देशों में है।
  • फिर भी पिछले संस्करण (2014) की तुलना में अमेरिका के साथ द्विपक्षीय सहायता गतिविधियों में शामिल होकर और आईएईए (IAEA) के अतिरिक्त प्रोटोकॉल का अनुसरण कर भारत ने अपने रैंक में दो स्थानों का सुधार किया है।
  • इस सूची (Index) के अनुसार, सर्वाधिक सुरक्षित चार देश इस प्रकार हैं-1. ऑस्ट्रेलिया 2. स्विटजरलैंड, 3. कनाडा तथा 4. पौलैंड।
  • इसमें उत्तर कोरिया (24वां स्थान), ईरान (23वां स्थान), पाकिस्तान (22वां स्थान) को सबसे असुरक्षित देश बताया गया है।
  • इसके अनुसार जापान की स्थिति में सर्वाधिक सुधार हुआ है।
  • इस सूची के अनुसार फ्रांस, अमेरिका तथा यूनाइटेड किंगडम को परमाणु हथियार वाले देशों (Nuclear Armed Status) में सबसे अधिक अंक मिले हैं।
  • इसके अनुसार संयुक्त राज्य अमेरिका, भारत, रूस, यूनाइटेड किंगडम सबसे बेहतर परमाणु हथियारों से युक्त देश हैं।
  • एक किग्रा. परमाणु सामग्री से कम या हथियार-उपयोगी परमाणु सामग्रियों के बगैर वाले देशों में ‘स्वीडन’ का स्थान प्रथम है जबकि जिबूती की स्थिति में सबसे ज्यादा सुधार हुआ है।
  • सेबोटेज (Sabotage) रैंकिंग 45 देशों में परमाणु सुविधाओं का आकलन प्रस्तुत करता है। इसके अनुसार, यदि इन देशों को निर्दिष्ट परमाणु सुविधाएं उपलब्ध न कराई गईं तो परोक्ष रूप से रेडियोलॉजिकल निस्तारण से गंभीर स्वास्थ्य परिणाम देखने को मिल सकते हैं।
  • सेबोटेज रैंकिंग में परमाणु सुविधाओं वाले 45 देशों में फिनलैंड प्रथम स्थान पर है। इस सूची में ऑस्ट्रेलिया द्वितीय स्थान पर है। उत्तर कोरिया सेबोटेज रैंकिंग में अंतिम स्थान पर है।

लेखक- देवमन यादव