विश्व बैंक : ऊर्जा दक्षता रैंकिंग, 2016

World Bank: Energy Efficiency Rankings

4 नवंबर, 2016 को नई दिल्ली में विश्व बैंक के कार्यकारी निदेशक सुभाष चंद्र गर्ग द्वारा ‘भारत के राज्य स्तरीय ऊर्जा दक्षता कार्यान्वयन की तैयारी’ (India’s State Level Energy Efficiency Implementation Readiness) शीर्षक से एक रिपोर्ट प्रकाशित की गई।

  • इस रिपोर्ट का प्रकाशन विश्व बैंक और ऊर्जा-दक्षता सर्विसेज लि. (Energy Efficiency Services Ltd.) द्वारा आयोजित दो दिवसीय (4-5 नवंबर, 2016) अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में किया गया।
  • इस सम्मेलन का विषय था-‘प्रथम ईंधन’ के रूप में ऊर्जा-दक्षता की ओर वैश्विक स्थानांतरण को बढ़ावा (Advancing the Global Transition to Energy Efficiency as the ‘First Fuel)।
  • सम्मेलन में प्रकाशित की गई रिपोर्ट में राज्यों द्वारा 11 विभिन्न मानकों के तीन समूह-(i) नीति एवं प्रोत्साहन (Policy & Incentives), (ii) बाजार परिपक्वता (Market Maturity) एवं (iii) संस्थानिक क्षमता (Insti-tutional Capacity) में अर्जित अंकों के आधार पर रैंक प्रदान की गई है।
  • प्रथम पांच स्थान प्राप्त करने वाले राज्य क्रमशः हैं-आंध्र प्रदेश, राजस्थान कर्नाटक, महाराष्ट्र एवं केरल (संयुक्त रूप से चौथा स्थान) और गुजरात।
  • उत्तर प्रदेश को 10वां स्थान प्राप्त हुआ है।
  • आंध्र प्रदेश ने पिछले 2 वर्षों में 1500 मेगा यूनिट (650 मेगावॉट) बिजली की बचत की है।
  • आंध्र प्रदेश द्वारा ऊर्जा बचत के लिए ‘आंध्र प्रदेश ऊर्जा सितारा’ कार्यक्रम (AP Energy Star Programme) प्रारंभ किया गया है, जिसके अनुसार केवल पांच सितारा (Five Star) वाले इलेक्ट्रॉनिक उपकरण ही घरों में प्रयोग किए जाएंगे।
  • इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में तारांकन उनकी ऊर्जा-दक्षता को दर्शाता है। जिस उपकरण में जितने अधिक सितारे (Star) होंगे, वह उतना ही अधिक ऊर्जा-दक्ष होगा।

लेखक-श्याम सुन्दर यादव