विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक, 2017

World Press Freedom Index,2017

प्रतिदिन की घटनाओं और मामलों के बारे में लोगों को सही तथ्य उपलब्ध कराना प्रेस एवं मीडिया का प्रमुख उत्तरदायित्व है। विश्वसनीय एवं सत्य तथ्यों के आलोक में किसी भी देश के नागरिक राष्ट्र जीवन के सभी पहलुओं पर अपनी राय बनाते हैं और उसकी अभिव्यक्ति करते हैं। लोकतंत्र को शासन की सबसे अच्छी पद्धति मानी जाती है। इसमें असहमति के बीच संवाद ही नहीं बल्कि सम्मान की भी व्यवस्था है। राष्ट्रीय जीवन और लोकतंत्र के भविष्य के लिए यह जरूरी है कि असहमति को भी स्वर मिलना चाहिए। आज जहां कई देशों में प्रेस एवं मीडिया (अभिव्यक्ति) स्वतंत्र हैं, वहीं कुछ देशों में इन पर प्रतिबंध है। इन्हीं स्वतंत्रताओं एवं प्रतिबंधों पर वर्ष 2002 से प्रति वर्ष ‘रिपोर्ट्स विदआउट बॉर्डर्स’ द्वारा एक रिपोर्ट प्रस्तुत की जाती है।

  • 26 अप्रैल, 2017 को रिपोर्ट्स विदआउट बॉर्डर्स (Reporters Without Borders) द्वारा विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक (World Press Freedom Index), 2017 प्रकाशित किया गया।
  • इस सूचकांक में कुल 180 देशों को शामिल किया गया है।
  • इस सूचकांक में भारत की स्थिति की जानकारी ‘मोदी के राष्ट्रवाद से खतरा’ (Threat From Modi’s Nationalism) शीर्षक से प्रकाशित की गई है।
  • वर्ष 2017 के सूचकांक में भारत 42.94 अंकों के साथ 136वें पायदान पर है, जबकि पिछले वर्ष भारत 43.17 अंकों के साथ 133वें स्थान पर था।
  • पिछले 6 वर्षों से लगातार प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले फिनलैंड को नॉर्वे ने प्रतिस्थापित किया।
  • सूचकांक में प्रथम पांच स्थान प्राप्त करने वाले देश- 1. नॉर्वे – 7.60, 2. स्वीडन – 8.27, फिनलैंड – 8.92, 4. डेनमार्क – 10.36 एवं नीदरलैंड्स 11.28 ।
  • सूचकांक में निम्नतम पांच स्थान प्राप्त करने वाले देश-(180) उत्तरी कोरिया – 84.98, (179) इरीट्रिया – 84.24, (178) तुर्कमेनिस्तान – 84.19, (177) सीरिया – 81.49 एवं (176) चीन – 77.66 ।
  • सूचकांक में प्राप्त अंकों के आधार पर देशों को 5 वर्गों में बांटा गया है-1. उत्तम, 0-15 अंक; 2. अच्छा, 15.01 – 25 अंक; 3. समस्याग्रस्त, 25.01 – 35 अंक; 4. खराब, 35.01 – 55 अंक; 5. बहुत खराब, 55.01 -100 अंक।
  • इस सूचकांक को बनाने के लिए रिपोर्ट्स विदआउट बॉर्डर्स द्वारा 20 भाषाओं में 80 प्रश्नों की एक ऑनलाइन प्रश्नावली तैयार की गई थी।
  • ये प्रश्नावली 7 मानदंडों पर बनाई गई है-1. बहुवाद (Pluralism), 2. स्वतंत्र मीडिया (Media Independence), 3. परिस्थिति एवं आत्म-अभिवेचन (Environment and Self – Censorship), 4. विधायी ढांचा (Legislative Framework), 5. पारदर्शिता (Transparency), 6. अवसंरचना (Infrastructure) और 7. हनन (Abuses)।
  • रिपोर्ट्स विदआउट बॉर्डर्स
  • वर्ष 1984 में पेरिस (फ्रांस) में स्थापित एक अंतरराष्ट्रीय गैर-सरकारी संगठन, जो प्रेस और सूचनाओं के अबाध प्रवाह की वकालत करता है।
  • इस संगठन को संयुक्त राष्ट्र में सलाहकार की प्रास्थिति प्राप्त है

लेखक-श्याम सुन्दर यादव